Friday, 8 September 2017

Mobile - मोबाईल

मोबाईल


नमस्कार मित्रों । आज बात करते हैं मानव जीवन की दीनचर्या में अपना एक अहम् स्थान बना चुके मोबाइल फ़ोन की, जिसके आने से वाकई दुनिया सिमट कर मुट्ठी में आ चुकी है । चौबीसों घंटे आप अपने परिजनों की पहुँच में रहते हैं ।

आपने भी अवश्य ही गौर किया होगा कि मोबाइल आजकल किसी नामी गिरामी हस्ती से भी बड़ा स्टार बन चूका है, साथ ही मानव जीवन में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान भी बना चुका है । हालात ये हो गए हैं कि आजकल घर में जितने सदस्य हैं उतने ही, या उससे ज्यादा भी, मोबाइल फ़ोन है ।

और तकनीक का तो कहना ही क्या, रोज कुछ ना कुछ नया अनोखा गुण लिए तरह तरह के चमचमाते फोन बाजार में आ भी रहे हैं और धड़ाधड़ बिक भी रहे हैं ।

कल तक जो मोबाइल किसी के लिए दुनिया का सर्वश्रेष्ठ नग हुआ करता था वो नए अतिरिक्त गुणों वाले मोबाइल के बाजार में आते ही पुराना और बेकार लगने लग जाता है, और वो उस मोबाइल के साथ बिताए सारे हसीन लम्हों को पल भर में भुला कर नए अवतरित हुए फ़ोन से नाता जोड़ लेता है ।

लोगों के इस शौक की वजह से ये दृश्य अब घर घर में आम हो गया है कि घर में अलमारी की एक आध दराज तो दो चार पुराने फोन, कुछ बैटरियां, हैडफ़ोन, चार्जर, मोबाइल कवर इत्यादि से भरी रहती है ।




तरह तरह की सुविधाओं वाले इन मोबाइल फोन में एक और सुविधा भी है । गेम्स की । जो गेम कभी गलियों या मैदानों में खेले जाते थे वे भी आजकल इस छोटे से जादुई डब्बे में आ गए ।

लेकिन ये तो मानना पड़ेगा कि जो आनंद उन खेलों का गली मैदान में आता था वो इस डब्बे में कहां । जब दोस्तों के साथ दो चार दिन पूर्व ही योजना बनाकर छुपा छुपी जो "तीन पत्ती" खेलने का मजा था, वो थोड़े ही मिल पाता है मोबाइल में ।

वैसे तो इन गेम्स ने दुनिया में मम्मियों को (कहीं कहीं बीवियों को भी) बड़ा तंग कर रखा है । कई कई बार तो तब बेचारी परेशान हो जाती है जब गेम में डूबा उसका लाल खाने पर भी तवज्जो नहीं देता है ।

खाना पड़े पड़े ठंडा हो जाता है लेकिन वो वीर खिलाड़ी लेवल पार करने की कोशिश में जी जान से लगा रहता है । भले ही इस चक्कर में मम्मी की डांट और कभी कभार पापा से फटके भी पड़ जाए ।

उसके बाद दो चार दिन तो स्तिथि नियंत्रण में रहती है, इस बीच फिर कोई छुट्टी का दिन या रविवार आ जाता है और मम्मी का मूड देखकर "मम्मी थोड़ी देर खेल लुं" का बिल पास करवा कर वो फिर अगले लेवल को पार करने की जद्दोजहद शुरू कर देता है ।




ये तो है वास्तविक स्तिथि । अब यही दृश्य बदल जायेगा यदि ऐसा हो जाये कि गेम खेलने के हर पॉइंट या हर लेवल पर कुछ लाल नीले नोट मिलने लग जाये । फिर तो जो दृश्य होगा उसकी कल्पना करके ही आनंद आ रहा है ।

बेटा मोबाइल स्क्रीन पर नजरें जमाये तेजी से उंगलियां चला रहा है जिसमें टोपी पहने एक लड़का रेल पटरियों पर कूदते फांदते भागे जा रहा है और इधर पॉइंट्स बढ़ते जा रहे हैं । पापा पास की स्टूल पर बैठे बीच बीच में "शाबाश, वेरी गुड, वाओ क्या जम्प लगाई" जैसे शब्दों से बेटे का हौसला बढ़ा रहे हैं ।

उधर मम्मी रसोई में अपने "कमाऊ लाल" के लिए केसर बादाम वाला दूध तैयार कर रही है । गेम पूरा होने पर पापा मम्मी दोनों बेटे को गेम की टास्क पूरा करने पर बधाइयां दे रहे है । पापा अपने दोस्तों को फोन करके गर्व से बेटे के गेम के पॉइंट्स बता रहे हैं ।

शाम को अपने हाथों से खाना खिलाते हुए मम्मी कहती है, बेटा आज जल्दी सो जा, तेरा होमवर्क पापा कर देंगे । तुझे कल सुबह जल्दी उठकर कैसे भी करके दूसरे वाले गेम का 1200 वां लेवल पार करना है । 1201 लेवल पर आते ही बैंक खाते में (हाथों को फैलाकर कहती है) इतने सारे रुपये आ जाएंगे ।

पापा भी खुशी खुशी बेटे का होमवर्क कर रहे हैं जो मोबाइल गेम्स से ही संबंधित है । जिसमें तरह तरह के गेम्स की व्याख्याएं लिखने को कहा गया है ।

अगले दिन मम्मी ने सुबह 4 बजे ही मोबाइल चार्ज होने को लगा दिया है ताकि दो ढ़ाई घंटे बाद बेटे को मोबाइल की बैटरी फुल मिले । पापा सुबह उठते ही प्ले स्टोर में कुछ नए गेम सर्च कर रहे हैं ताकि कुछ अतिरिक्त धनवर्षा हो सके ।

फिर बड़े प्यार से बेटे को उठाया जा रहा है । अब बेटा उठकर पापा के खेलने लायक गेम उन्हें बता रहा है । फिर नहा धो कर बाप बेटे अपने अपने मोबाइल ले कर लग जाते हैं गेम की टास्क पूरी करने में ।

मम्मी दोनों के लिए रोज नए नए स्वादिष्ठ पकवान बनाती है और अगर वे गेम की किसी टास्क में उलझे हैं तो अपने हाथों से खिला भी देती है ।




कई मम्मियों को अपने एक या दो बच्चे होने पर अफसोस भी होता है क्योंकि जिनके पांच सात बच्चे है उनकी कमाई भी तो उतनी ज्यादा जो हो रही है ।

कुछ मम्मियां अपने बच्चों को उलाहना भी देती है, "वो वर्माजी के लड़के को देख, तीन दिन में 450 लेवल पार कर लिए, गुप्ताजी की मंझली बेटी तो 700वे लेवल पर पहुंच गई है और तू है कि अभी 300वे पर अटका पड़ा है । कुछ सीख उन लोगों से ।"

क्या अद्भुत कल्पना है ना दोस्तों ।  खैर ये तो एक मजेदार कल्पना मात्र थी । मगर हकीकत ये ही है कि आजकल हर बच्चे बूढ़े के हाथ में ये मोबाइल रूपी खिलौना है । ये जितना सुविधाजनक है उतना ही अगर ज्यादा इस्तेमाल किया जाए तो खतरनाक भी है ।

इसके द्वारा होने वाले शारीरिक और मानसिक नुकसान के बारे में आप भी अक्सर पढ़ते रहते होंगे । अतः जहां तक संभव हो मोबाइल का कम से कम इस्तेमाल करें । विशेषतया बच्चे ।

आजकल एक विशेष प्रकार के गेम की चर्चा भी चारों और है जिसमें किशोर बच्चे फंस रहे हैं और परिणामस्वरूप उसके कुछ दुखदायी समाचार भी सुनने को मिल रहे हैं । इस प्रकार के गेम भूलकर भी ना खेलें । परिजन भी इस बात का विशेष ध्यान रखें और समय समय पर बच्चों के मोबाइल और उनकी मानसिक स्तिथि का पता करते रहें एवं जरूरत पड़े तो कुछ सख्ती भी बरतें ।

अब आपसे विदा चाहूंगा दोस्तों । अपना ध्यान रखें । जल्दी ही फिर मिलते हैं ।

जय हिंद

मुहब्बत की मिठास



*शिव शर्मा की कलम से*







आपको मेरी ये रचना कैसी लगी दोस्तों । मैं आपको भी आमंत्रित करता हुं कि अगर आपके पास भी कोई आपकी अपनी स्वरचित कहानी, कविता, ग़ज़ल या निजी अनुभवों पर आधारित रचनायें हो तो हमें भेजें । हम उसे हमारे इस पेज पर सहर्ष प्रकाशित करेंगे ।.  Email : onlineprds@gmail.com

धन्यवाद

Note : Images and videos published in this Blog is not owned by us.  We do not hold the copyright.









Tuesday, 29 August 2017

Mohabbat Ki Mithas - मुहब्बत की मिठास


मुहब्बत की मिठास

क्षमा चाहूंगा मित्रों । फिर एक बार आपसे मिलने में मैंने काफी समय लगा दिया, परंतु अब मैं कोशिश करूंगा कि सप्ताह में कम से कम हमारी एक मुलाकात होती रहे ।

इस बार फिर आपके समक्ष एक ग़ज़ल लेकर आया हुं । कैसी है ये तो आपके कमेंट्स से पता चलेगा । उम्मीद है कि आपको "मुहब्बत की मिठास" जरूर पसंद आएगी ।

    ** ** ** **

मुहब्बत की मिठास

इस कदर रिश्ते संभाल लिया करो
कुछ बातें हंसकर टाल दिया करो,

तन्हाइयां तोड़ देती है आदमी को
कुछ अपना भी ख़याल किया करो,

नफरतों की खटास, मिट ही जाएगी
मुहब्बत की मिठास डाल दिया करो,

छोटी सी जिंदगी प्यार के लिए भी कम है
नाहक ही ना कोई बवाल किया करो,

कोई जो पूछे, क्या औकात है आदमी की
थोड़ी मिट्टी हवा में उछाल दिया करो,

उम्र भर महज जवाब ही क्यों दें
ज़िंदगी से भी कुछ सवाल किया करो,

मशहूर हो जाओगे फ़क़त इतना करने से
लोगों के जख्मों से कांटे निकाल दिया करो,

जो मुंह से निकले और मशहूर हो जाये
ऐसी नायाब मिसाल दिया करो,

हर दिल अजीज़ बन जाओगे "शिव"
खुद को हर सांचे में ढाल लिया करो ।।

           * * * *

आपकी हौसला अफजाई और आपके सुझावों का इंतज़ार करूंगा । जल्दी ही फिर मिलेंगे ।

जय हिंद


पहला सुख निरोगी काया



*शिव शर्मा की कलम से*











आपको मेरी ये रचना कैसी लगी दोस्तों । मैं आपको भी आमंत्रित करता हुं कि अगर आपके पास भी कोई आपकी अपनी स्वरचित कहानी, कविता, ग़ज़ल या निजी अनुभवों पर आधारित रचनायें हो तो हमें भेजें । हम उसे हमारे इस पेज पर सहर्ष प्रकाशित करेंगे ।.  Email : onlineprds@gmail.com

धन्यवाद

Note : Images and videos published in this Blog is not owned by us.  We do not hold the copyright.









Thursday, 20 July 2017

Ek Woh Bhi Tha Zamana - एक वो भी था जमाना

एक वो भी था जमाना


एक वक्त था बिस्तर से हम भोर भए उठ जाते थे,
जितना बन पड़ता था काम में माँ का हाथ बंटाते थे,

लेकर डोर बाल्टी कुएं से पानी भर लाते थे,
पापा के जूते भी अक्सर पॉलिश से चमकाते थे,

दादाजी की छड़ी ढूंढ शाबाशी पाया करते थे,
दादी संग रामायण की चौपाई गाया करते थे,

खुद पढ़ते तो साथ बहन भाई को पढ़ाया करते थे,
सहपाठी मित्रों के संग कितना बतियाया करते थे,

हंसी ठिठोली मस्ती घर में हरदम छाई रहती थी,
शाम ढले नानी दादी परियों की कहानी कहती थी,



बंटी चिंटू कालू बबलू शाम ढले आ जाते थे,
खेल कबड्डी खो-खो सारे के सारे थक जाते थे,

पिंकू के घर पानी और मक्खन घर छाछ उड़ाते थे,
घर आकर फिर बड़े चाव से दाल रोटी खाते थे,

खेल थे सारे सेहत वाले, घर के बने पकवान थे,
सीमित कमाई थी लेकिन दिल से सारे धनवान थे,

दूध दही का खानपान था स्वस्थ निरोगी रहते थे,
प्रेम की सरिता मोह के सागर तब घर घर मे बहते थे,

गांव गली में कहीं भी कोई घटना गर हो जाती थी,
पलक झपकते बिना फोन ही सबको खबर हो जाती थी,

एक दूजे से वाकिफ थे और मन में आदर भाव था,
छोटे बड़ों की कद्र थी सबको कितना प्यारा गांव था,




समय जो बदला साथ साथ परिवेश भी सारा बदल गया,
गांव बन गए शहर साथ ही भेष भी सारा बदल गया,

आधुनिकता की आंधी में मौसम भी तो बदल गए,
रंग बदल गए ढंग बदल गए और हम थोड़े बदल गए,

अब ना है वो वाला बचपन है ना ही वो शैतानी है,
किस्से हो गए लुप्त परी के कहां वो दादी नानी है,

बचपन डूब रहा है भैया प्रतिशत के चक्कर में,
स्कूल से घर घर से क्लास और मोबाइल कंप्यूटर में,

पापा हो गए व्यस्त बसाने, सुख साधन खुशियां घर में,
ओवर टाइम करना जरूरी कुछ पैसों के चक्कर में,

मम्मी भी तो चली कमाने आखिर इतने खर्चे हैं,
होम लोन फर्नीचर टीवी इतने सारे कर्जे हैं,

हर महीने तौबा कितनी किश्तें बैंकों की भरनी है,
इसीलिए तो भैया को भी नौकरी कोई करनी है,


सुख की खोज में सुख को खोकर व्यर्थ ही सब मजबूर हुए,
पास होकर भी पास नहीं हम घर परिवार से दूर हुए,

लोक दिखावे की खातिर कितने दुख हमने पाल लिए,
खामोशी से चिंताओं ने घर में डेरे डाल दिए,

जब तक समझ में आया तब तक वक्त हाथ से फिसल गया,
खाली धनुष हाथ मे रह गया तीर कमान से निकल गया,

दौड़ भाग में जीवन बीता देख बुढापा रो दिए,
हाथ के मैल को पाने खातिर स्वर्णिम लम्हे खो दिए ।।

         ** ** ** **

शीघ्र ही फिर मुलाकात होगी मित्रों, किसी नई रचना के साथ । तब तक के लिए विदा दोस्तों ।

जय हिंद

*शिव शर्मा की कलम से*



आपको मेरी ये रचना कैसी लगी दोस्तों । मैं आपको भी आमंत्रित करता हुं कि अगर आपके पास भी कोई आपकी अपनी स्वरचित कहानी, कविता, ग़ज़ल या निजी अनुभवों पर आधारित रचनायें हो तो हमें भेजें । हम उसे हमारे इस पेज पर सहर्ष प्रकाशित करेंगे ।.  Email : onlineprds@gmail.com

धन्यवाद

Note : Images and videos published in this Blog is not owned by us.  We do not hold the copyright.